अब धरती पर सुपरहीरो की जरुरत नहीं रही

Social Icons

August 01, 2013

अब धरती पर सुपरहीरो की जरुरत नहीं रही

ऐसा वक्त दुर्लभ होता है कि सुपरमैन को कोई उदास देखे। तब मुझे पता नहीं था कि अब सुपरमैन को देखना ही दुर्लभ हो जाएगा।
मैंने पूछा- सुपरमैन, उदास क्यों हो?
सुपरमैन ने मुझे देखा- मैं यह धरती छोड़कर जा रहा हूं, किसी और ग्रह पर। मैं ही नहीं, सारे सुपरहीरो, बैटमैन, महाबली बेताल, फ्लैश गॉर्डन सब जा रहे हैं।
मैंने कहा- सारे सुपरहीरो चले जाएंगे तो धरती का क्या होगा?
उसने कहा- अब हमारी जरूरत नहीं रही, हम सबने रिटायरमेंट का फैसला किया है।
मैंने पूछा- क्यों? क्यों? क्यों?
उसने कहा- अब नरेन्द्र मोदी जो आ गए हैं, वे हम सब से अकेले ही भारी हैं। कल रजनीकांत से बात हुई थी, वे भी सोच रहे हैं कि फिल्में छोड़कर वे सास बहू सीरियल में रोल करने लगें। पहली बार ऐसा हुआ है कि सुपरमैन से लेकर रजनीकांत तक सब अपने आप को बेकार महसूस कर रहे हैं।

जब नरेन्द्र मोदी हैं तो दुनिया में कोई समस्या नहीं रहेगी, न अपराध, न गरीबी, न भ्रष्टाचार, न बीमारी, फिर हम करेंगे क्या? मैं कुछ कह नहीं सकता था, उसकी व्यथा वास्तविक थी और उसका इलाज मेरे पास नहीं था। होता भी कैसे, आम लोगों की समस्याएं सुपरमैन चुटकियों में सुलझाता था, उसकी समस्या भला कौन सुलझा सकता था।
मैंने कहा- लेकिन कहीं जाने की क्या जरूरत है, नरेन्द्र मोदी के रहते तुम भी तो दुनिया में रह सकते हो।
उसने कहा- नहीं, हमें यह संदेश मिल गया है कि इस धरती पर एक ही रह सकता है। हमने एक सुदूर ग्रह ढूंढा है, अब हम वहीं जा कर बसेंगे। हमने नरेन्द्र मोदी से कहा है कि हमें वहां पहुंचाने का इंतजाम करवा दें। उन्होंने कहा है कि वे करवा देंगे, वे एक टवेरा भेज रहे हैं हम सबके लिए।
मैंने कहा- लेकिन टवेरा से आप दूसरे ग्रह तक कैसे जाएंगे?
उसने कहा- नरेन्द्र मोदी क्या नहीं कर सकते, वे टवेरा तो क्या साइकिल से वहां तक पहुंचा दें।
हम यूं ही रिटायर थोड़े ही हो रहे हैं।


-- "लाइव हिन्दुस्तान में राजेंद्र जी"

3 comments:

  1. आपके ब्लॉग को "ब्लॉग - चिठ्ठा" में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी(comments) हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।
अत: टिप्पणी कर उत्साह बढ़ाते रहें।