क्या है कंप्यूटर वायरस और कैसे बचें इसके अटैक से

Social Icons

September 20, 2013

क्या है कंप्यूटर वायरस और कैसे बचें इसके अटैक से

दोस्तों आज हमारी जिंदगी का अहम् हिस्सा बन चुका है कंप्यूटर और कंप्यूटर अधुरा है जब तक इन्टरनेट न हो और जो लोग इन्टरनेट इस्तेमाल करते है उन्हें कंप्यूटर वायरस से दो - चार होना ही पड़ता है, लेकिन यदि हम जरा सा सतर्कता बरते तो काफी हद तक बचा जा सकता है इस वायरस नाम के बला से, कैसे? आईये जानने का प्रयास करते है|

कंप्यूटर वायरस/मालवेयर एक प्रकार का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो आपके कंप्यूटर के लिए खतरनाक साब‌ित हो सकता है। इस सॉफ्टवेयर को हैकर्स कंप्यूटर से पर्सनल डाटा चोरी करने के लिए डिजाइन करते हैं।

हैकर्स की भाषा में मालवेयर टर्म का यूज वायरस, स्पाय वेयर और वार्म आदि के लिए किया जाता है। ये तीनों वायरस के ही रूप हैं।

मालवेयर आपकी निजी फाइलों तक पहुंचकर उन्हें दूसरी किसी डिवाइस में ट्रांसफर कर सकता है। इसके जरिए हैकर्स आपकी सूचनाएं, फोटो, वीडियो, बैंक या अकाउंट से जुड़ी जानकारी चुरा सकते हैं।

मालवेयर अटैक के कारण
कंप्यूटर पर मालवेयर अटैक के कई कारण हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह इंटरनेट से की जाने वाली डाउनलोडिंग है। आप जितनी ज्यादा डाउनलोडिंग करेंगे उतना ही ज्यादा मालवेयर का खतरा होता है।

इंटरनेट से हम जो कंटेंट, पिक्चर, वीडियो या गाने आदि लेते है, उनके जरिए मालवेयर के वायरस बड़ी आसानी से हमारे सिस्टम तक आ जाते हैं।

कई बार कंप्यूटर में लगाई जाने वाली रिमूवेबल डिवाइस भी मालवेयर की वजह बन जाती है। यदि आपने ऐसी कोई पेन ड्राइव या मेमोरी कार्ड अपने सिस्टम में लगाया, जिसमें पहले से वायरस है, तो यह आपके सिस्टम के लिए खतरनाक हो सकता है।

वायरस से बचाव के तरीके

  • गानें या पिक्चर आदि की डाउनलोडिंग केवल विश्‍वसनीय वेबसाइट से ही करें। हो सकता है इसके लिए आपको कुछ पैसे देने पड़े लेकिन यह आपके सिस्टम के लिए अच्छा रहेगा।
  • यदि आपके सिस्टम में एंटी मालवेयर या एंटी वायरस नहीं है तो इसे तुरंत इंस्टॉल कराएं।
  • अपने सिस्टम के एंटी वायरस को समय-समय पर अपडेट करते रहें। इससे यह भी पता चलता रहेगा कि एंटी वायरस ठीक काम कर रहा है या नहीं।
  • अपने महत्वपूर्ण डाटा को पासवर्ड से सुरक्षित रखें, ताकि इसे चुराना या हैक करना आसान न हो। जो पासवर्ड आपने सेट किया है, उसमें अंक और अक्षर दोनों का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।
  • अपने पीसी में फायरवॉल इंस्टॉल करें। फायरवॉल कंप्यूटर और इंटरनेट के बीच सुरक्षा दीवार की तरह काम करता है। इसे हमेशा ऑन रखें।


दोस्तों यदि आप भी लिखने का शौक रखते है या फिर कोई जानकारी गुल्लक के पाठको तक पहुचाना चाहते है तो आप सादर आमंत्रित है 'गेस्ट पोस्ट' के लिए..

3 comments:

  1. आज की विशेष बुलेटिन एल्जाइमर्स डिमेंशिया और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. thanks for your nice information.

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी(comments) हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।
अत: टिप्पणी कर उत्साह बढ़ाते रहें।